Home Health/Accident News झारखण्ड के टंडवा में जल रहे कोयले की समस्या पर जनकल्याण ने लिखा प्रधानमंत्री...

झारखण्ड के टंडवा में जल रहे कोयले की समस्या पर जनकल्याण ने लिखा प्रधानमंत्री को पत्र

SHARE
जल रहे कोयले की समस्या पर जनकल्याण
जल रहे कोयले की समस्या पर जनकल्याण

टंडवा/झारखण्डबी रिपोर्ट शैलेश कुमार:- झारखण्ड के टंडवा सीसीएल की आम्रपाली परियोजना में जल रहे कोयले को लेकर प्रदूषण की समस्या से विस्थापित भू रैयत का दम अब घुटने लगा है ।वही सीसीएल प्रबंधन की दमघोटू नीति से त्रस्त विस्थापित भू रैयत की बैठक कुमरांग खुर्द के गोसाई थान में की गयी ।बैठक जनकल्याण कमिटी के द्वारा की गयी जिसकी अध्यक्षता सिद्धेश्वर ओझा ने की एवं संचालन आशुतोष मिश्रा ने किया ।

बैठक में मुख्य रूप से चार प्रस्ताव लिए गए जिसमे पहले प्रस्ताव में बताया गया कि माँ अम्बे कंपनी के वर्करों द्वारा बंदी को देखते हुए जनकल्याण कमिटी 12 मई को होने वाली बंदी को भू रैयतों एवं वर्करों के हित में स्थगित करती है । एवं जनकल्याण कमिटी माँ अम्बे के वर्करों की मांगों का समर्थन करती है ।

दूसरे प्रस्ताव में भारत सरकार के पास पत्र लिखा गया जिसमें यह दर्शाया गया की सीसीएल की आम्रपाली कोल परियोजना में जल रहे कोयले की समस्या के कारण यहां के विस्थापित पांच गाँव कुमरांग खुर्द ,कुमरांग कला ,होन्हे ,उड़सू ,विंगलात ,के ग्रामीणों का प्रदूषण के कारण जीना दुश्वार हो गया है ।वही विगत चार सालों में परियोजना विस्थापित भू रैयत को मुआवजा एवं रोजगार के लिए परेसान होना पड़ रहा है ।

प्रस्ताव लिया गया कि कोर्ट के निर्देश है कि ब्लास्टिंग से क्षतिग्रस्त मकानों की घरों का विवरण सीसीएल प्रबंधन कोर्ट को जल्द सौपे । बैठक में बद्री साव ,लवकुश नारायण ,रंजन चौधरी ,मुकेश यादव ,गौतम गंझू ,राजेंद्र ,सूदन गंझू ,सीताराम साव ,तिलेश्वर यादव ,प्रकाश ठाकुर ,लालकिशुन ,समेत सैकड़ो भू रैयत उपस्थित थे ।


रिपोर्ट शैलेश कुमार


 टॉप न्यूज़ 24×7 से जुड़ने के लिए 

Click here

टॉप न्यूज़ 24×7 का मोबाइल एप्प डाउनलोड करने के लिए 

Click here

Disclaimer

हमे आप के इस TopNews24x7 Online Hindi News Channel   को बेहतर बनाने में सहायता करें किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य मे कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह यहाँ सूचित करे  indiatopnews24x7@gmail.com पर  साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दे । जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।