Home Social Work News बेसिक शिक्षा विभाग ने बड़ा फैसला किया अब एक स्कूल बैग को...

बेसिक शिक्षा विभाग ने बड़ा फैसला किया अब एक स्कूल बैग को 5 साल तक चलाना होगा

SHARE

मथुरा ब्योरों रिपोर्ट :- बेसिक शिक्षा विभाग ने बड़ा फैसला किया है. अब सिर्फ पहली और छठी क्लास में ही छात्रों को स्कूल बैग दिया जाएगा. इसके अलावा नया दाखिला लेने वालों और अनुदानित स्कूलों में पढ़ने वाले कक्षा 1 से 8 तक के छात्रों को स्कूल बैग मिलेंगे. खास बात यह है कि विभाग ने यह फैसला जुलाई 2017 में ही कर लिया था, लेकिन अब टेंडर जारी होने पर सामने आया है. स्कूल बैग के लिए बेसिक शिक्षा विभाग ने टेंडर भी जारी कर दिया है. यह टेंडर सिर्फ 60 लाख स्कूल बैग के लिए जारी किया गया है.

जबकि सूबे के परिषदीय स्कूलों में करीब 1 करोड़ 54 लाख छात्र-छात्राएं पढ़ते हैं. इसके अलावा अनुदानित स्कूलों की बात करें तो वहां भी करीब 21 लाख छात्र-छात्राएं हैं. इसके अलावा करीब 6 लाख नए दाखिले का भी लक्ष्य रखा गया है. इस हिसाब से सरकार कुल 1 करोड़ 81 लाख छात्र-छात्राओं में से सिर्फ 60 लाख छात्रों को ही स्कूल बैग देगी.

वहीं करीब सवा करोड़ छात्रों को नए सत्र में स्कूल बैग नहीं मिलेगा. सरकार ने यह तो तय कर लिया कि अब एक स्कूल बैग को 5 साल तक चलाना होगा, लेकिन यह नहीं सोचा कि आखिर यह होगा कैसे? वर्तमान सत्र में सरकार ने जो स्कूल बैग दिए उनकी क्वालिटी को लेकर पहले ही सवाल उठ रहे हैं. हजारों बच्चों के बैग 6 महीने भी नहीं चल पाए और फट गए.

ऐसे छात्र अब अपने घर से दूसरे स्कूल बैग लाने को मजबूर हैं. इस साल भी टेंडर में स्कूल बैग की क्वालिटी को लेकर कोई बदलाव नहीं है. पिछले साल जैसी ही शर्तें हैं. ऐसे में बड़ा सवाल है कि जो बैग 6 महीने नहीं चल पाया,

वह 5 साल तक कैसे चलेगा? प्राथमिक स्कूलों में छात्र और बैग बांटने का नया फरमान प्राइमरी स्कूलों में कुल छात्र- करीब 1.54 करोड़ नए सत्र में बढ़ेंगे छात्र- 6 लाख अनुदानित स्कूलों में छात्र- 21 लाख बेसिक शिक्षा विभाग ने किया टेंडर- सिर्फ 60 लाख बैग अब सिर्फ पहली और छठी क्लास में बच्चों को मिलेगा स्कूल बैग नया दाखिला लेने वालों को भी दिया जाएगा स्कूल बैग इस साल अनुदानित स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों को भी देंगे स्कूल बैग