Home Politics शेरपुर प्रधान का एक और कारनामा मृतक के नाम कर दिया आवास...

शेरपुर प्रधान का एक और कारनामा मृतक के नाम कर दिया आवास आवंटित

 

 

रिपोर्ट एहतिशाम बेग

 

प्रधान का कारनामा मौजूद प्रधानमंत्री आवास की सूची में पात्र लोगों के बजाय अपात्र व अपने वोटरों को आवास आवंटित कर दिए गए व आवास की किश्त का पैसा  नाम पलट कर बैंक प्रबंधक ग्राम प्रधान सचिव व खण्ड अधिकारी की मिलीभगत से  निकाल लिया गया । सगीर ,सरफराज,इरफान,मैनुद्दीन,नौशाद,वक़ील अहमद,सलाउद्दीन,ग्राम वसिंयों का आरोप है कि ग्राम में प्रधानमंत्री आवास शासन द्वारा दिये गए थे जिसमें ग्राम प्रधान व ग्राम पंचायत विकास अधिकारी ब्लॉक कम्प्यूटर ऑपरेटर द्वारा आवास में धोखाधड़ी तथा सरकारी धन का दुरुपयोग किया गया है पात्र वयक्तियों को आवास न देकर अपात्र लोगों को आवास आवंटित कर दिया गया है जिसमे अक़बर पुत्र बाबू आई डी नम्बर -1193425 पर अक़बर पुत्र मोहम्मद जान को दे दिया गया है इनका कहना कि हमने कई बार लिखित में शिकायत खण्डविकास अधिकारी,परियोजना निदेशक, उपजिलाधिकारी इससे संबंधित सभी अधिकारियों को लिखित में देकर मामले को मेरे द्वारा अवगत कराया जा चुका है। फिर भी अभी तक कोई कार्यवाही नही की गई है उसके बाद भी प्रधान समयबद्ध अपात्रों को आवास आवंटित कर रहा है ।इरफान अली पुत्र जब्बार आई डी नम्बर 2149654 पर किसी दूसरे गांव में रहे इरफान को दे दिया गया है । वक़ील अहमद पुत्र मुश्ताक आई डी नम्बर 2152951 पर वक़ील पुत्र अब्दुल रहीम को दे दिया गया है नौशाद पुत्र शफीउद्दीन आई डी नम्बर 2152952 पर नौशाद पुत्र शफिल्ल्ला खान को दे दिया गया सगीर पुत्र शफीक अहमद आई डी नम्बर 2147079 है इनका कहना है कि इस आई डी पर जमील को आवास दे दिया गया है  गौरतलब है जहां तक की मृतक फारूक अली पुत्र मेहदी हसन आई डी नम्बर 1346518 को दे दिया गया बल्कि ग्राम वसिंयों का कहना है कि फारूख अली की मृत्यु आज आज से सात वर्ष पूर्व हो चुकी है इसके परिवार में कोई भी जीवित वारिस नही है तथा सरकारी पैसे का बन्दरबांट प्रधान ग्राम प्रधान सचिव व कम्प्यूटर ऑपरेटर की मदद से किया गया है कुटरवना कर आवास का आवंटन किया गया है ग्राम प्रधान  आयशा बानो ने आवास चयन में धोखाधड़ी की गई है आवास की क्रम वार सूची अनुसार नही दिए गए हैं नाम छोड़ कर आवास दिए गए हैं जो विधि के विपरीत हैं ।

ब्लॉक स्तरीय अधिकारियों की शह पर ग्राम पंचायतों में फर्जीवाड़ा की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रहा हैं। लाभार्थियों से अवैध वसूली भी ग्राम प्रधानों के लिये सौभाग्य का पिटारा साबित हो रही है।  रातोंरात अमीर बनने की लालसा कम होने का नाम ही नही ले रही है प्रधान व अधिकारी भ्र्ष्टाचार करने में पीछे नही हट रहे हैं।

ग्राम वसिंयों ने अधिकारीयो से जांच कराकर दोषी व्यक्तियों  के विरुद्ध कानूनी कार्यवाही करने की मांग की है