Home Sitapur लहरपुर अधिशासी अधिकारी को तीन बार सूचना देने पर भी नही हटाया...

लहरपुर अधिशासी अधिकारी को तीन बार सूचना देने पर भी नही हटाया गया जलता हुआ कूड़ा, दो गुटों में कभी भी हो सकता बड़ा विवाद

लहरपुर अधिशासी अधिकारी को तीन बार सूचना

लहरपुर रिपोर्ट एहतिशाम बेग:- प्रदूषण से बचाने के लिए भले लाख कवायद हो, लेकिन नगर में कूड़े के जलने पर अभी तक प्रशासन अंकुश नहीं लगा पाया है.स्थानीय लोगो ने सूचना देकर अवगत कराया कि कई दिनों से गुरखेत बाजार में मस्ज़िद के पीछे कूड़ा डाल दिया जाता है वह उस पर आग लगा दी जाती है जिससे काला धुंआ ज़ोरों से उठता है जिससे आस पास के लोगों के घरों में व मस्ज़िद में कर रहे इबदतगार लोगों को काफी परेशानी हो रही है जिस पर स्वम् अधिशासी अधिकारी लहरपुर को तीन बार फ़ोन पर सूचनी दी गई उसके बावजूद वहां कोई भी कर्मचारी मौके पर नही पहुंचा धुंए के कारण मस्ज़िद बदरंग हो रही है.

इससे पहले कई लोगों ने कूड़ा जलने पर आपत्ति ज़ाहिर की थी लेकिन फिर भी कूड़ा जलाने से लोग बाज़ नही आ रहे हैं क्या अब शासन अपने अधिकारी पर कूड़ा जलता पाए जाने पर व सूचना देने पर भी पालिका द्वारा कोई सख्त क़दम नही उठाया गया इस सम्बन्ध में इस अफसर के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए जाएंगे या नही ?
कूड़ा जलना हानिकारक है. काला धुँवा पूरे बाजार में फैला हुआ है जिससे घरों के रंग भी बदरंग हो रहे है. धुंए से वायु प्रदूषण हो रहा है व कूड़े के ढेर को हानिकारक गैसों का भंडारण बना दिया है इसको लेकर स्थानीय लोग खासे नाराज हैं. बल्कि कूड़ा जलाए जाने पर कार्रवाई करने के निर्देश हैं स्पष्ट रूप से कह दिया गया है पर्यावरण को बचाने के लिए कूड़े को जलने से बचाना है. इसका सही तरह से निस्तारण कराया जाना ही जरूरी है.

इस विभाग का जिम्मेदार कौन
मस्ज़िद के आसपास गंदगी के कारण लोगों को खासी परेशानी होती है. भले ही इस क्षेत्र में रोज सफाई होती हो, लेकिन कहीं न कहीं गंदगी बिखरी मिलने से बदनामी हो रही है. इसके लिए इस विभाग को जिम्मेदारी सौंपते हुए रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं. लेकिन सिर्फ कागजों पर सिमट गई है इस तरह के दृश्य देखने के बाद इसे अपने कैमरों में कैद कर लिया.

लेकिन पालिका को सूचना देने पर भी इसे गंभीरता से नही लिया गया ईद के मुबारक मौके पर उसके बाद भी यहां सफाई व्यवस्था उच्चस्तरीय नहीं दिखाई रही है अहिबरन लाल ने गुड्डू को निर्देश दिए फिर भी वह मौके पर नही पहुंचा जिम्मेदारी सौंपते हुए निर्देश दिए कि वह अपनी टीम लगाकर इस क्षेत्र का निरीक्षण कराएं लेकिन अधिशासी अधिकारी का आदेश गुड्डू कर्मचारी के लिए सिर्फ पालिका में चाय मंगाने तक ही सिमट कर रह गया इससे यह साबित होता है कि पालिका के कर्मचारी अधिशासी अधिकारी पर भी भारी है । रोज़मर्रा का जो जलता हुआ कूड़ा है अगर इसे समय रहते नही रोका गया तो कभी भी किसी समय दो गुटों में विवाद का भयानक रूप धारण कर सकता है