Home Shravasti भारी बारिश के बीच मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम हुआ सम्पन्न, 64 जोडे...

भारी बारिश के बीच मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम हुआ सम्पन्न, 64 जोडे विवाह सूत्र बन्धन में बधें

ब्यूरो प्रदीप गुप्ता
श्रावस्ती। गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले ज़रूरतमन्द, निराश्रित/निर्धन परिवारो की विवाह योग्य कन्या/विधवा/परित्यक्ता/तलाकशुदा महिलाओं के विवाह के लिए शादी अनुदान योजना के तहत आर्थिक सहायता उपलब्ध कराते हुए ‘‘मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना’’ के माध्यम से सामूहिक विवाह सम्पन्न कराया गया। योजनान्तर्गत आच्छादित लोगों को उनकी सामाजिक/धार्मिक मान्यता एवं परम्परा/रीति-रिवाज के अनुसार विवाह करने की व्यवस्था कराकर समाज में सर्वधर्म-समभाव एवं सामाजिक समरसता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से वैवाहिक कार्यक्रम सम्पन्न कराये गये हैं। यह योजना खासकर गरीबों के लिए वरदान साबित हो रही है क्योंकि ऐसे गरीब जो अपनी गरीबी और लाचारी के कारण समय से अपने बेटियों का हाथ नही पीला कर पा रहे थे सरकार ने उन बेटियों के हाथ पीला करके एक ऐतिहासिक कार्य कर रही है।

उक्त विचार कलेक्ट्रेट तथागातहाल में मुख्यमंत्री सामुहिक विवाह योजनान्तर्गत हो रहे विवाह कार्यक्रम में वर वधुओं को आर्शीवाद प्रदान करने के दौरान सांसद दद्दन मिश्रा ने व्यक्त किया है। उन्होने कहा कि भारत सरकार एवं प्रदेश सरकार अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक वर्ग एवं सामान्य वर्ग के गरीब व्यक्तियों के पुत्रियों की शादी के लिए लागू ‘‘मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना’’ के सम्बन्ध में बहुत ही सराहनीय कामगर कदम उठाये हैं।

सांसद दद्दन मिश्रा ने कहा कि गरीब व्यक्तियों की पुत्रियों की शादी सरकार अपने खर्चे पर करके लड़कियों का जो हाथ पीले कर रही रही है यह सरकार का बहुत बड़ा ऐतिहासिक फैसला है। इससे निश्चित ही गरीबों को अपने बेटी की शादी करने से चिन्तित नही होना पड़ेगा। प्रदेश के मुख्यमंत्री जी की सोंच से इस योजना का अमली जामा पहनाया गया है इससे निश्चित ही गरीबों के चेहरों पर खुशहाली आयेगी। उन्होने बताया कि मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजनान्तर्गत कन्या के दाम्पत्य जीवन में खुशहाली एवं गृहस्थी की स्थापना के लिए सहायता राशि रू. 20,000=00 मात्र कन्या के खाते में अंतरित की गयी है किन्तु विधवा, परित्यक्ता/तलाकशुदा के मामले में सहायता राशि रू. 25,000=00 मात्र होगी। इसके अलावा विवाह संस्कार के लिए आवश्यक सामग्री (चाॅदी की बिछिया, पायल व कपड़े तथा 07 बर्तन) के लिए रू. 10,000=00 की व्यवस्था की गयी है। किन्तु विधवा, परित्यक्ता/तलाकशुदा के मामले में सहायता राशि रू. 5,000=00 दी गई है।

विवाह सम्पन्न होने के उपरान्त वर-वधुओं को सांसद ने उपहार प्रदान किया तथा सांसद तथा जिलाधिकारी ने पुष्प वर्षा कर आर्शीवाद दिया। इसके अलावा शासन द्वारा प्रदत्त अन्य सुविधाएं भी वर-वधुओं को प्राथमिकता से प्रदान किया गया।

इस अवसर पर जिलाधिकारी दीपक मीणा ने कहा कि प्रदेश सरकार जो गरीब व्यक्तियों के पुत्रियों का जो बीड़ा उठाया है इससे निश्चित ही गरीबों को अपने बेटी की शादी के लिए अब चिन्तित नही होना पड़ेगा। निर्धारित नियम व शर्तो पर से 64 वर/वधू मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के लिए पात्र पाये गये। 64 जोड़ों का विवाह/निकाह का भव्यता के साथ कार्यक्रम आयोजित किया गया है। जिसमें से 57 जोड़ों हिन्दू धर्म की रीतिरिवाज के साथ तथा 7 जोडों के उनके रीतिरिवाज के तहत निकाह कराया गया।

जिलाधिकारी ने बताया कि विवाह के प्रति जोड़ा को मोबाइल नोकिया, बिछिया, अंगूठी, चांदी की पायल, दो साडी सेट, कुकर यूनाइटेड, भगोना स्टील का, पानी का कन्टेनर, डिनर सेट, मेक अॅप बाक्स, क्रीम, कुर्ता, गमछा, पगड़ी, पैजामा आदि उपहार के तौर पर दिया गया है।

इस अवसर पर जिला पंचायत अधिकारी, जिला दिव्यांगजन कल्याण अधिकारी मोहन त्रिपाठी, जिला खण्ड विकास अधिकारीगण, सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण उपस्थित रहे।

इस दौरान जिला समाज कल्याण अधिकारी राकेश रमन ने मुख्यमंत्री सामुहिक विवाह योजना में सम्मिलित होने आये जन प्रतिनिधि, गणमान्य व्यक्तियों एवं बुद्धिजीवियों का आभार व्यक्त किया।