Home Shravasti भारत नेपाल सीमा के गाँव में दोहरी नागिरता का लाभ लेने वाले...

भारत नेपाल सीमा के गाँव में दोहरी नागिरता का लाभ लेने वाले नेपाली नागरिकों का बिछा जाल

ब्यूरो प्रदीप गुप्ता

श्रावस्ती। भारत का पड़ोसी देश नेपाल के नागरिकों द्वारा सीमा के पास स्थित गाँव में अपना मकान बना कर और रह रहे है। जहाँ पर बी0एल0ओ द्वारा जो सर्वे कार्य किया जा रहा है। उसमे अपना नाम मतदाता सूची में डलवाकर व बी0एल0ओ से मिली भगत करके नेपाल व भारत सरकार  दोनों देशो से लाभ ले रहे है। जबकि सीमा के पास गाँव जैसे ककरदरी, लक्षमनपुर कोठी, जमुनहा बाजार, लाल बोझा दरवेश गाँव, तुरुषमा, घोड़दौरिया, रामपुर जब्दी, परसा डेहरिया, पटना बीरगंज, असनहरिया , रोशन गढ़, भरथा, कानी बोझी, मल्हीपुर कला, आदि। गाँव में नेपाली नागरिक मकान बना कर रह रहे है। इन लोगो का जन्म स्थान व मकान व कृषि योग्य भूमि नेपाल में है और वहाँ के मूल निवासी भी है। लेकिन हमारे यहां के बी0एल0ओ0 नेपाली नागरिक से मिली भगत करके मतदाता सूची में नाम डाल देते है। और ये लोग आधार कार्ड बनवा लेते है जिससे भारत सरकार द्वारा मिलने वाले लाभ के हक दार हो जाते है। और हमारे यहाँ की गरीब जनता जो पात्र की श्रेणी में है। वो लोग लाभ से वंचित रह जाते है। और नेपाल के नागरिक ग्राम प्रधान से मिली भगत करके मिलने वाला लाभ ले लेते है।

योजनाओं का लाभ

मिलने वाला लाभ जैसे आवास, शौचालय, सोलर लाईट, खाद्यान, आदि का लाभ प्रधान से मिली भगत करके ले लेते और उधर नेपाल सरकार से मिलने वाला लाभ भी नेपाल सरकार से ले लेते है। और हमारे यहाँ के गरीब व असहाय लोगों को जो लाभ मिलना चाहिए वो नही मिल पाता है। क्योकि ग्राम प्रधान पैसा व वोट के चक्कर में बाहरी लोगो को लाभ दे देते है। नेपाल के नागरिक पैसा बी0एल0 ओ को देकर अपना नाम मतदाता सूची में डलवाते है और मत देने का अधिकार प्राप्त कर लेते है। जबकि बैठक में जिलाधिकारी श्रावस्ती द्वारा कड़े निर्देश दिए गए है कि मतदाता सूची में जो दूसरे देश के लोग यहाँ रह रहे है उनका नाम मतदाता सूची में न अंकित करे। लेकिन यहाँ के बी0एल0 ओ जिलाधिकारी श्रावस्ती का आदेश न मान कर चन्द पैसे में बिक जाते है। इस सन्दर्भ में स्थानीय जन प्रतिनिधि व समाज सेवी कमलेश मिश्रा, महेश मिश्रा ओम, दिनेश सिंह, काशी राम वर्मा, लाल जी यादव, राम कुमार, रणवीर सिंह, शिव पाल वर्मा, आदि लोगो ने जिलाधिकारी श्रावस्ती से मांग की ही कि जो पड़ोसी देश नेपाल के रहने वाले नागरिक है उनका एलआईयू द्वारा सीमा क्षेत्रों में जाँच करा कर दोहरी नागरिकता का लाभ लेने वाले लोगों के बिरुद्ध कार्यवाही की जाये।