Home Chamoli चमोली दोगुडी-काण्डई में आयोजित किया गया बहुउदेश्शीय विधिक साक्षरता एवं जागरूकता शिविर

चमोली दोगुडी-काण्डई में आयोजित किया गया बहुउदेश्शीय विधिक साक्षरता एवं जागरूकता शिविर

चमोली दोगुडी-काण्डई में आयोजित किया गया

चमोली रिपोर्ट संदीप कुमार :- जिला विधिक सेवा प्राधिकरण चमोली के तत्वाधान में विकासखण्ड दशोली के राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय दोगुडी-काण्डई में बहुउदेश्शीय विधिक साक्षरता एवं जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में अधिवक्ताओं ने कानूनी तथा विभागीय अधिकारियों ने जन कल्याणकारी योजनाओं जानकारियां क्षेत्रीय जनता को दी।

सिविल जज (सी0डि0)/जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव रवि प्रकाश शुक्ला ने अपने संबोधन में कहा कि कानून साक्षरता एवं जागरूकता शिविरों में जनता को अपने कानूनी अधिकारों का ज्ञान होता है। कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को उसके कानूनी अधिकार के लिए न्याय में व्यवस्था है। जनता को अपने कानूनी अधिकारों की जानकारी होनी चाहिए। कहा कि आर्थिक या किसी अन्य निर्योग्यता के कारण कोई नागरिक न्याय प्राप्त करने के अवसर से वंचित न रह जाय, इसके लिए विधिक प्राधिकरण द्वारा निःशुल्क विधिक सहायता दी जाती है। कहा कि पैरालींगल स्वयं सेवकों के माध्यम से भी समय समय पर गावों में जागरूकता शिविरों का आयोजन किया जा रहा है। 

उन्होंने कहा कि गरीब व निःसहाय लोगों के लिए निःशुल्क अधिवक्ता की व्यवस्था भी है। किसी भी नागरिक को किसी भी सरकारी विभाग की योजनाओं के संबधित में कोई परेशानी या शिकायत हो तो जिला विधिक प्राधिकरण से सहायता ले सकता है। शिविर में महिला सुरक्षा अधिनियम की जानकारी देते हुए उन्होंने महिलाओं के अधिकारों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि घरेलू हिसां से पीडित महिलाओं को कानून से पूरी सुरक्षा प्रदान की जाती है। विधिक साक्षरता शिविर में कानूनी शिक्षा, पर्यावरण, आवास, पशुक्रूरता अधिनियम, नशा उन्नमूलन, मोटर वाहन अधिनियम आदि के संबध में विस्तार से जानकारियां दी गयी।

इस अवसर पर उप जिलाधिकारी परमानंद राम ने सेवा का अधिकार के साथ ही तमाम प्रमाण पत्रों को प्राप्त करने की जानकारी देते हुये कहा कि इस प्रकार के शिविरों के आयोजन से समुदाय के सभी लोगों को लाभ मिल पाता है। उन्होनें ग्रामीणों की कई समस्याओं का मौके पर ही निस्तारण भी किया।

शिविर में अधिकारियों ने समाज कल्याण, मनरेगा, आजीविका, ग्राम्य विकास आदि विभागों द्वारा संचालित योजनाओं के बारे में विस्तार से जानकारियां दी। पशुपालन, वन, शिक्षा, सैनिक कल्याण, समाज कल्याण, बाल विकास, आयुर्वेदिक ग्राम्य विकास आदि विभागीय स्टाॅलों के माध्यम से स्थानीय जनता को लाभान्वित किया गया। आर्युवेदिक विभाग द्वारा 100 रोगियों का उपचार तथा स्वास्थ्य विभाग द्वारा 135 रोगियों का उपचार कर निशुल्क दवाईयां भी वितरित की गई। हिमाद के सचिव उमाशंकर बिष्ट ने 1098 के साथ ही बच्चों के साथ होने वाले अपराधों को रोकने के लिये जनजारूकता पर जोर दिया।


इस अवसर दोगडी काण्डई प्रधान भगत कनियाल, वमियाला ग्राम प्रधान माधवी रावत, महिला मंगल दल अध्यक्षा शांति देवी, सुशीला देवी, तहसीलदार सोहन सिंह रांगड, जिला समाज कल्याण अधिकारी सुरेन्द्र लाल, बीडीओ रघुनाथ सिंह, खण्ड शिक्षा अधिकारी दर्शन लाल टम्टा, अधिवक्ता भरत सिंह रावत, हिमांद के सचिव उमाशंकर बिष्ट सहित क्षेत्रीय जनता मौजूद थी। कार्यक्रम का संचालन नवज्योति महिला कल्याण संस्थान के सचिव महानंद बिष्ट ने किया।