Home Chamoli चमोली —कारगिल विजय दिवस के अवसर पर शहीदों को दी गयी श्रधांजलि

चमोली —कारगिल विजय दिवस के अवसर पर शहीदों को दी गयी श्रधांजलि

शौर्य एवं पराक्रम का उत्सव ‘‘कारगिल विजय दिवस’’ जनपद में बडे हार्षोउल्लास एवं धूमधाम से मनाया गया। जिला पंचायत परिसर में जिला पंचायत अध्यक्षा मुन्नी देवी शाह, जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया सहित जनप्रतिनिधियों, जिला स्तरीय अधिकारियों एवं गणमान्य नागरिकों ने अमर शहीदों के चित्रों पर माल्यपर्ण करते हुए श्रृद्धासुमन अर्पित किये तथा अमर शहीदों के बलिदान को याद करते हुए अमर शहीदों को सलामी दी गयी। कारगिल दिवस के अवसर पर घिघंराण मोटर मार्ग पर बटलेश्वर महादेव मंदिर के निकट पौधरोपण, जिला स्तरीय अधिकारियों की ट्रैकिंग प्रतियोगिता के साथ-साथ देशभक्ति पर जिले में विविध कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।
 
कारगिल दिवस समरोह पर मुख्य कार्यक्रम जिला पंचायत सभागार में आयोजित किया गया। समारोह में अमर शहीद राइफल मैन सतीशचन्द्र के पिता महेशानन्द, नायक कृपाल सिंह की पत्नी श्रीमती विमला देवी, नायक पुष्कर सिंह के भाई दलवीर सिंह तथा नायक दिलवर सिंह के भाई विक्रम सिंह को शाॅल एवं स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया गया। वही कार्यक्रम में उपस्थित कारगिल युद्व में शामिल पूर्व सैनिक को भी सम्मानित किया गया। 
 
शौर्य दिवस के मौके पर मुख्य अतिथि जिला पंचायत अध्यक्षा ने देश के शहीद जवानों को नमन करते हुए कहा कि हमें गर्व है कि हम अपने देश के अमर शहीदों की शहादत से खुली हवा में सांस ले रहे है। उन्होंने कहा कि पूर्व सैनिकों की समस्याओं का प्राथमिकता के आधार पर निराकरण किया जायेगा। अमर शहीदों के गांवों में आयोजित बहुउदेशीय शिविरों में जो समस्यायें रखी गयी है उनका समाधान किया जायेगा।
 
बद्रीनाथ विधायक महेन्द्र भट्ट ने कहा कि कारगिल अमर शहीदों के क्षेत्र में स्थित सडकों, विद्यालयों तथा संस्थाओं का नाम उनके नाम पर रखने का कार्य किया जायेगा। ताकि आने वाली पीढी वर्षो तक उनसे प्रेरणा ले सके। उन्होंने विधायक निधि से इस कार्य में सहयोग करने का भरोसा भी दिलाया। 
 
मुख्य विकास अधिकारी हसांदत्त पांडे ने कहा कि नई पीढी को देश के इतिहास के बारे में जानकारी रखनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अमर शहीदों का अमूल्य बलिदान हमें प्रेरणा देता है। कारगिल विजय दिवस भारतीय सेना के साहस और देश को सुरक्षित रखने में हमारे सशस्त्र बलों के महान बलिदानों की याद दिलाता है। उन्होंने कहा कि कारगिल अमर शहीदों के गांवों में खेल मैदान निर्माण के लिए जल्द कार्यवाही शुरू की जायेगी। 
 
जिला सैनिक कल्याण अधिकारी प्रमोद प्रसाद बहुगुणा ने कहा कि कारगिल के दुर्गम क्षेत्र में पाकिस्तानी सेना के घुसपैठियों/सैनिकों को 26 जुलाई 1999 को भारतीय सैनिकों ने अपने अदम्य सहास का प्रर्दशन करते हुए मार भगाया। इस अभियान में जिले के 11 सैनिकों ने अपना बलिदान दिया। इस विजय की स्मृति में हर साल 26 जुलाई को कारगिल दिवस को शौर्य दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस अवसर पर स्थानीय विद्यालयों की छात्र-छात्राओं के द्वारा देश भक्ति पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रमों की शानदार प्रस्तुत दी गयी। 
 
कार्यक्रम में पूर्व विधायक कुंवर सिंह नेगी, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष प्रेम बल्लभ भट्ट, वरिष्ठ सामाजिक कार्यकर्ता सुरेन्द्र सिंह लिंगवाल, मुरारी लाल, दिनेश तिवारी, यदुवीर सिंह वत्र्वाल, फकीर सिंह वत्र्वाल, धूम सिंह नेगी, सुरेन्द्र लाल, देवी प्रसाद पुरोहित, जिप सदस्य ऊषा रावत, सीडीओ हसांदत्त पांडे, अपर जिलाधिकारी मोहन सिंह बर्निया, एसडीएम परमानंद राम सहित अन्य जनप्रतिनिध, गणमान्य नागरिक, जिला स्तरीय अधिकारी एवं स्कूली छात्र-छात्राऐं मौजूद थी। कार्यक्रम का संचालन नेहरू युवा केन्द्र के समन्वय योगेश धसमाना द्वारा किया गया। 
 
इससे पूर्व प्रातः 9ः00 बजे जिला प्रशासन द्वारा शौर्य दिवस पर गोपेश्वर घिंघराण मोटर मार्ग पर बटलेश्वर शिव मन्दिर रौली ग्वाड़ के समीप फलदार एवं छायादार पौधो का रोपण भी किया गया। वही सुबह 8ः00 बजे स्पोटर्स स्टैडियम गोपेश्वर से कुण्ड काॅलोनी स्थित बीएसएनएल टाॅवर तक जिलास्तरीय अधिकारियों की पैदल ट्रैकिंग प्रतियोगिता का आयोजन भी किया गया। जिसमें 25 अधिकारियों व कर्मचारियों ने प्रतिभाग किया। एसडीएम परमानन्द राम ने टैªकिंग दल को स्पोटर्स स्टैडियम से हरी झण्डी दिखाकर रवान किया। ट्रैकिंग प्रतियोगिता में क्रीडा अधिकारी सुरेश चन्द्र पाण्डेय प्रथम, जिला आपदा प्रबन्धन अधिकारी द्वितीय तथा सहायक निदेशक डेयरी राजेन्द्र सिंह चैहान ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। ट्रैकिंग प्रतियोगिता के विजेताओं को जिला पंचायत अध्यक्षा मुन्नी देवी शाह व विधायक महेन्द्र भट्ट ने पुरस्कृत किया। शौर्य दिवस के अवसर पर जिला अस्पताल गोपेश्वर में रक्तदान शिविर लगाया गया। वही अस्पताल में भर्ती मरीजों को फल भी वितरित किये गये।