Home Dhamtari मार्च के महीने में पेयजल संकट … ग्रामीणों के माथे पर छाई...

मार्च के महीने में पेयजल संकट … ग्रामीणों के माथे पर छाई संकट के बादल … गंगरेल बांध से की पानी छोड़ने की मांग …ग्रामीण बोले ! खेतो की फसले सूखने के कगार पर …नलो में नही आ रहा पानी ….

छत्तीसगढ़ धमतरी ... गर्मी शुरू होते ही शहर व् ग्रामीण इलाकों में पानी की समस्या भी शुरू हो जाती है ..जहा ग्रामीण इलाकों में इसका ज्यादा असर देखने को मिलता है … लोग अपनी परेशानी को लेकर कलेक्टर ऑफिस पहुचते है … और अपनी परेशानी से अवगत कराते है … इन दिनों ग्रामीण अंचल के  किसानों ने निस्तारी के लिए नदी में पानी छोड़ने की मांग कलेक्टर से की  है …. गांव वालों ने कहा कि महानदी में बारहमासी निस्तारित करते आ रहे हैं ..  किंतु इस वर्ष फरवरी माह के अंत में महानदी पूरी तरह सूख गई है … जिसके कारण महानदी के किनारे बसे ग्रामों में ग्रामीणों को जल संकट पेयजल व निस्तारित की गंभीर समस्या से जूझना पड़ रहा है … महानदी में पानी सूखने से उक्त ग्राम के नलकूपों एवं कृषि पंप का वाटर लेवल काफी नीचे चला गया है …  साथ ही गर्मी बढ़ने की वजह से गांव के तालाब कुआं आदि जल स्त्रोत सूखने लगे हैं … ज्ञात हो कि विगत वर्षों देवपुर दरगहन में नवनिर्मित एनीकट में पानी स्टोर करके रखा गया था … लेकिन इस वर्ष के निकट के गेट भी रेत संचालकों के लिए खोलने के कारण पानी को स्टोर नहीं किया गया है .. इस कारण से महानदी का पानी समय से पूर्व सूख गया है …  जिस वजह से यह निस्तारित की समस्या उत्पन्न हुई है .. 

इसी मांग को लेकर मराठा पारा  के  पार्षद दुष्यंत घोरपडे के नेतृत्व में ग्राम दरगहन भंवरमरा बरारी लिलर सलोनी  दरगाहन के ग्रामीणों के साथ के 

अपर कलेक्टर से मिलकर वस्तुस्थिति से अवगत कराया और जल्द से जल्द पानी छोड़ने की मांग की है …