Home Agra प्रताड़ित महिलाओं के लिए किया गया धरना प्रदर्शन

प्रताड़ित महिलाओं के लिए किया गया धरना प्रदर्शन

आगरा।योगी सरकार  महिलाओं पर हो रहे अत्याचार को रोकने के लिए हो रही है नाकामयाब , प्रताड़ित महिलाओं का ग्राफ और पिछली सरकारों की अपेक्षा करीब 2 गुना ज्यादा,सरकार को उन महिला व पुरुषो के अलावा उन लोगो पर कार्यवाही करनी चाहिए जिनकी खातिर बसे बसाये घर उजड़ गए,

 

,-विशाल धरने में बाल एवं महिला एवं महिला विकास कल्याण समिति की सभी संस्था के सदस्यों ने 7 महिलाओं का काफी सहयोग किया,ए सीएम ने कहा यदि ससुराल में रखने से मनाकरे तो लड़के को 14 दिन के लिए जेल भेजा जाए।योगी सरकार  महिलाओं पर हो रहे अत्याचार को रोकने के लिए नाकामयाब साबित हो रही है  इस सरकार में कार्यकर्ता से लेकर मंत्री तक सभी लोग कहते  है इस सरकार के अलावा किसी सरकार ने अपराध पर नियंत्रण नही लगाया है सभी भाजपा कार्यकर्ता

अपनी सरकार को अपराध पर नियंत्रण करने के गुणगान करते हैं

लेकिन प्रताड़ित महिलाओं को न्याय दिलाने के लिए सरकार ने अभी तक कोई ठोस कदम नहीं उठाया इस सरकार पिछ्ली सरकारों की अपेक्षा  महिलाओं की स्थिति ज्यादा दयनीय  रही है इस सरकार में रेप की घटना हो, या छेड़छाड़, या फिर  प्रताड़ित महिलाओं की इस सरकार में प्रताड़ित महिलाओं का ग्राफ और पिछली सरकारों की अपेक्षा करीब 2 गुना ज्यादा है

दहेज के कारण सबसे ज्यादा, दूसरी महिलाओं के साथ प्रेम संबंध के कारण अधिकतर मामले  सामने आये है

लेकिन सरकार को उन महिला व पुरुषो के अलावा उन लोगो पर कार्यवाही करनी चाहिए जिनकी खातिर बसे बसाये घर उजड़ गए,जिन लोगो को महिलाओं ने प्रेम जाल में फसाकर उनके घर बर्बाद किये उन महिलाओं कोभी जेल भेजने की आदेश हो तो काफी महिला प्रताड़ित हैं वो प्रताड़ित नही होंगी

 जिससे प्रेम संबंध रखने  से पहले व्यक्ति को 4 बार सोचना पड़े 

 

 एक ऐसा ही मामला ताज नगरी आगरा का है जिसमे शहीद  स्मारक संजय प्लेस में 7 महिलाओं ने मिलकर धरना प्रदर्शन किया और अपनी बात को प्रशासन के सामने रखा।प्रताड़ित महिलाओं ने कहा उनकी मांग खुद के लिए नहीं बल्कि उन सही महिलाओं के लिए थी जो कि आज भी प्रताड़ित है उनको आज भी कोई भी न्याय दिलाने के लिए आगे नहीं आया है इस विशाल धरने में बाल एवं महिला एवं महिला विकास कल्याण समिति की सभी संस्था के सदस्यों ने 7 महिलाओं का काफी सहयोग किया 

जिसका  असर हुआ यह कि मीडिया ने इस बात को प्राथमिकता से दिखाया तो अधिकारियों को प्रताड़ित महिलाओं के सामने झुकना पड़ा और उनकी मांग को स्वीकार कर धरने को समाप्त किया गया।

 

ए सी एम ने कहा कि उन 7 प्रताड़ित महिलाओं को ससुराल भेजने के लिए नजदीकी थानाध्यक्ष को बुला कर अवगत कराया और ए सीएम ने कहा यदि ससुराल में रखने से मनाकरे तो लड़के को 14 दिन के लिए जेल भेजने के लिए आदेश दे दिया और कहा कि आगे इस शहर में कोई भी महिलाओं को न्याय दिलाने का कार्य भी किया जाएगा और कहा सरकार इस मालमे में गंभीरता से विचार कर प्रताड़ित महिलाओं के लिए नया कानून बनाने पर जोर दे रही जिससे आगे से पीड़ित महिलाओं को नहीं भटकना पड़ेगा और जल्द ही उनके साथ न्याय दिलाने का कार्य किया जाएग